। उत्तराखंड स्थापना दिवस 9 नवंबर पर विशेष जानकारी ।

666px-UttarakhandDistricts_numbered.svg

उत्तराखण्ड(पूर्व नाम उत्तरांचल), उत्तर भारत में स्थित एक राज्यहै जिसका निर्माण ९ नवम्बर २०००को कई वर्षों के आन्दोलन के पश्चात[2] भारतगणराज्य के सत्ताइसवें राज्यके रूप में किया गया था। सन २००० से २००६तक यह उत्तराञ्चल के नाम से जाना जाता था। जनवरी २००७में स्थानीय लोगों की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए राज्य का आधिकारिक नाम बदलकर उत्तराखण्ड कर दिया गया।[3]राज्य की सीमाएँ उत्तर में तिब्बतऔर पूर्व में नेपाल से लगी हैं। पश्चिम में हिमाचल प्रदेश और दक्षिण में उत्तर प्रदेश इसकी सीमा से लगे राज्य हैं। सन २००० में अपने गठन से पूर्व यह उत्तर प्रदेश का एक भाग था। पारम्परिक हिन्दू ग्रन्थों और प्राचीन साहित्य में इस क्षेत्र का उल्लेख उत्तराखण्ड के रूप में किया गया है। हिन्दी और संस्कृत में उत्तराखण्ड का अर्थ उत्तरी क्षेत्र या भाग होता है। राज्य में हिन्दू धर्म की पवित्रतम और भारत की सबसे बड़ी नदियों गंगा और यमुना के उद्गम स्थल क्रमशः गंगोत्री और यमुनोत्रीतथा इनके तटों पर बसे वैदिक संस्कृति के कई महत्त्वपूर्ण तीर्थस्थान हैं।

देहरादून, उत्तराखण्ड की अन्तरिम राजधानी होने के साथ इस राज्य का सबसे बड़ा नगर है। गैरसैण नामक एक छोटे से कस्बे को इसकी भौगोलिक स्थिति को देखते हुए भविष्य की राजधानी के रूप में प्रस्तावित किया गया है किन्तु विवादों और संसाधनों के अभाव के चलते अभी भी देहरादून अस्थाई राजधानी बना हुआ है।[4][5] राज्य का उच्च न्यायालय नैनीताल में है।